श्री गणेश चतुर्थी की धूम

देश के प्रधानमंत्री से लेकर भारत के आमजन गणेश चतुर्थी उत्सव में तल्लीन है। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र दामादर दास मोदी ने अपने एक वरिष्ठ मंत्री पीयूष गोयल के घर जाकर श्री गणेश की पूजा की थी। प्रधानमंत्री ने भक्ति का यह मौका भी नहीं गँवाया। प्रधानमंत्री अपने देश के आराध्य देवी देवताओं को नमन् करना कभी नहीं भूलते। उनके अंदर हिन्दू देवी देवताओं के लिए अपार श्रद्धा है। वैसे लोगों का कहना है कि वे शिवशंकर के भक्त हैं। लेकिन वे सभी देवी देवताओं की आराधना समर्पण भाव से करते हैं। इन दिनों श्री गणेश के भक्त गणेश की पूजा में लगे हुए हैं। भण्डारे किए जा रहे हैं। कुछ दिन यही सिलसिला चलता रहेगा। भण्डारे के बाद गणेश विसर्जन की बारी आती है। गणेश विसर्जन तक भक्ति भाव का सिलसिला जोर शोर से चलता है। श्री गणेश भारतीयों की जीभ पर विराजमान रहते हैं। जब भी कोई काम शुरू करना हो तो इस शुरूआत को श्रीगणेश ही कहा जाता है। श्री गणेश का नाम लेने के बाद ही कोई अच्छा काम शुरू होता है। कहते हैं कि भगवान चप्पे-चप्पे पर मौजूद होते हैं। भगवान श्री गणेश के बारे में यह सोलह आने सत्य है। वैसे तो गणेश जी की पूजा का बम्बईया अंदाज सबसे ज्यादा लोकप्रिय है । महाराष्ट्र की भाषा में श्री गणेश को गणपति बप्पा कहा जाता है। वहाँ मुम्बई में लाल बाग के अन्दर गणेश जी की हर साल बहुत बड़ी और भव्य प्रतिमा तैयार की जाती है। वहाँ गणेश जी को लाल बाग के राजा के नाम से पुकारा जाता है। मुम्बई में गणेश जी का उत्सव बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। धूमधाम से ही समुद्र में जाकर गणपति बप्पा का विसर्जन कर दिया जाता है। गणपति बप्पा की जय।

Check Also

उत्तराखण्ड के जल संसाधन

उत्तराखण्ड की सरकार को अपने स्तर से उत्तराखण्ड जल संसाधनों का लेखा जोखा तैयार करना …