Breaking News

मुख्यमंत्री बघेल ने प्रदेशवासियों को महाशिवरात्रि की बधाई दी

-कौही में 52 करोड़ रुपए की लागत के जलसंसाधन कार्यों का भूमिपूजन भी

-दुर्ग पाटन अभनपुर मार्ग में खम्हरिया नाले में 6 करोड़ रुपए की लागत से बने उच्चस्तरीय पुल का होगा लोकार्पण

-पाटन विकासखण्ड में होगा जल संसाधन विभाग के लगभग 74 करोड़ रुपए की लागत के कार्यों का भूमिपूजन

रायपुर (जनसम्पर्क विभाग)।मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने प्रदेशवासियों को महाशिवरात्रि की बधाई दी है। महाशिवरात्रि की पूर्व संध्या पर जारी अपने शुभकामना संदेश में मुख्यमंत्री ने कहा है कि महाशिवरात्रि का त्यौहार पूरे देश के साथ-साथ छत्तीसगढ़ में भी श्रद्धा और भक्तिभाव से मनाया जाता है। बघेल ने इस अवसर पर भगवान शिव से प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि की कामना की है। रायपुर महाशिवरात्रि के पावन पर्व के अवसर पर मुख्यमंत्री  दुर्ग जिले के पाटन में कौही और ठकुराइनटोला के मंदिर में भगवान शिव के दर्शन करेंगे। इस अवसर पर  बघेल ठकुराइनटोला में 19 करोड़ 40 लाख रुपए की लागत से बनने वाले पुल, बाढ़ नियंत्रण के लिए 2 करोड़ 90 लाख रूपए की राशि से तटबंध कार्य का भूमिपूजन करेंगे। मुख्यमंत्री कौही में जलसंसाधन से जुड़ी हुई 52 करोड़ 40 लाख रुपए की संरचनाओं का भूमिपूजन करेंगे। इसे मिलाकर पाटन विकासखण्ड में जल संसाधन विभाग के लगभग 74 करोड़ रूपए की लागत के विभिन्न कार्यों का भूमिपूजन होगा। मुख्यमंत्री श्री बघेल पाटन विकासखण्ड के खम्हरिया नाले में छह करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले उच्चस्तरीय पुल का, क्रेडा द्वारा ठकुराइनटोला में सौर सामुदायिक सिंचाई योजनाओं और तालाब भराई योजनाओं एवं कौही में सोलर पंप के माध्यम से तालाब भराई के लिए 4 करोड़ 9 लाख रूपए की लागत से तैयार योजना का लोकार्पण करेंगे। कार्यक्रम में कौही में ही क्रेडा द्वारा खर्रा एवं तर्रीघाट में क्रमशः 89 लाख और 57 लाख की लागत से सोलर पंप के माध्यम से तालाब भराई योजना का भूमिपूजन होगा।
उल्लेखनीय है कि पिछली बार मुख्यमंत्री ने ठकुराइनटोला में भक्तों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए यहां लक्ष्मण झूला बनाने की घोषणा की थी। लक्ष्मण झूला के पीछे तट के दूसरी ओर लैंडस्केपिंग का कार्य भी किया जाएगा। खम्हरिया नाला में पुल के तैयार हो जाने से 25 गांवों की 50 हजार की आबादी को लाभ पहुंचेगा। क्रेडा की योजनाओं के माध्यम से ठकुराइनटोला, सिकोला, तेलीगुण्डरा, जरवाय, खर्रा, तर्रीघाट में बड़ी आबादी में किसानों को खरीफ एवं रबी दोनों ही फसल के लिए लाभ पहुंचेगा। भू-जल संवर्धन के साथ ही निस्तारी सुविधा भी मिल पाएगी।

Check Also

राज्य की समृद्ध लोक संस्कृति एवं परम्पराओं का संगम है युवा उत्सव : खेल मंत्री 

-राज्य स्तरीय युवा महोत्सव एवं लोक साहित्य महोत्सव का आगाज -युवा महोत्सव से मिल रहा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *