Breaking News

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल स्पीकआउट रिइमेजिनिंग छत्तीसगढ़ में हुए शामिल

सभी वर्ग के लोगों के आय और समृद्धि के लिए काम कर रही है राज्य सरकार: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल
रायपुर (जनसंपर्क विभाग) । मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज देर शाम एक निजी होटल में आयोजित स्पीक आउट रिइमेजिंग छत्तीसगढ़ कार्यक्रम शामिल हुए। श्री मुख्यमंत्री बघेल ने परिचर्चा के दौरान कहा कि छत्तीसगढ़ की समृद्धि के लिए हमने, हमारी सरकार ने हर वर्ग, व्यक्ति के आय मैं वृद्धि के लिए कार्य कर रही है। इसके तहत शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार और संस्कृति के क्षेत्र में अनेक कार्य हो रहे हैं। यही हमारी सरकार की प्राथमिक विकास मॉडल है। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि लोगों की आय में वृद्धि ही हमारा उद्देश्य है। हमने व्यक्ति के विकास के साथ ही कुपोषण और अशिक्षा जैसे बड़ी समस्या को खत्म करने की दिशा में कार्य किया और आज 41 प्रतिशत 0 से 5 साल के बच्चे कुपोषण से मुक्त हो चुके है। इसी कड़ी में किसान, मजदूर, आदिवासी, युवाओं को आय के साधन प्रदान किए जा रहे हैं। किसानों का ऋण माफ किया गया। इससे वह किसान जो खेती से दूर हो चुके थे अब फिर से कृषि कार्यों से जुड़ते जा रहे हैं। धान का समर्थन मूल्य के साथ-साथ इनपुट सब्सिडी के लिए राजीव गांधी किसान न्याय योजना लाया। वहीं, अब 2640 से 2660 रुपए पर धान खरीदी हो रही है। वर्ष 2017 में पंजीकृत किसानों की संख्या 15 लाख थी, जो बढ़कर अब 24 लाख हो चुकी है। रकबा पहले 22 लाख हेक्टेयर था जो अब बढ़कर 32 लाख हेक्टेयर हो चुका है। इस खरीफ सीजन में अब तक प्रदेश में 97 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हो चुकी है। वहीं, जनवरी तक 1.10 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी का लक्ष्य रख गया है। कार्यक्रम में राज्यसभा सांसद फुलादेवी नेताम, संसदीय सचिव एवं रायपुर पश्चिम के विधायक विकास उपाध्याय, टीवी एक्टर सुशांत सिंह, आउटलुक पत्रिका के सीईओ इंद्रनील रॉय, संपादक निधि सिन्हा उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री  बघेल ने कार्यक्रम में सामाजिक, आर्थिक, जन-जागरूकता, कृषि, महिला सशक्तिकरण के साथ स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले व्यक्तित्वों को सम्मानित किया।

Check Also

मुख्यमंत्री धामी ने सचिवालय में आयुष एवं आयुष शिक्षा विभाग द्वारा आयोजित 15 दिवसीय आयुष शिविर का किया शुभारंभ

देहरादून । मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को सचिवालय में आयुष एवं आयुष शिक्षा …