Breaking News

बरेली में सनातन धर्म का डंका

ईसाई लड़का मुस्लिम लड़की बने हिन्दू पति पत्नी
युवा वाहिनी कार्यकर्ताओं ने निभाई रस्म
नेशनल वार्ता ब्यूरो
सुमित ने ईसाई मजहब छोड़ कर और नूर ने मुस्लिम मजहब त्याग कर अग्नि के सात फेरे लेकर हिन्दू पति पत्नी बन कर तहलका मचा दिया। युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने वधू का भाई बन कर पावन रस्म को निभाया और वर वधू को आशीर्वाद दिया। दोनों में जब प्रेम प्रसंग चला तो लड़का ईसाई था और लड़की मुस्लिम। लेकिन दोनों के अन्दर एक खासियत रही कि वे सनातन धर्म की ओर झुकाव रखते थे । जिसके चलते दोनों ने हिन्दू रीति से विवाह रचाया और सनातनी हो गए। दोनों ने बरेली में दो रोज पहले अगस्त्य मुनि आश्रम में यह चर्चित शादी की। महंत के द्वारा कन्यादान किया गया। नूर बी ने कहा कि उसे नूर बी नहीं निशा कहा जाए। दोनों पीलीभीत के रहने वाले हैं। तीन साल पहले दोनों की मुलाकात हुई थी। तब दोनों इंटर की पढ़ाई कर चुके थे। दोनों ने विधिवत हिन्दू रीति से शादी करने की ठानी। लिहाजा, वे बरेली के किला स्थित अगस्त्य मुनि आश्रम के महंत और राष्ट्रीय जागरूक ब्राह्मण महासंघ के मण्डल अध्यक्ष पं0 के0के0 शंखधर के सम्पर्क में आए। बालिग होने के प्रमाण दिए और सनातनी रीति से शादी करने का विचार जताया। दोनों ही माता रानी के भक्त हैं। निशा परास्नातक की पढ़ाई कर रही है और उसका कहना है कि वह सोच समझ कर ही आगे बढ़ रही है। सुमित की नौकरी लग चुकी है। उन्होंने अपना इरादा बताया कि वे माता रानी के भक्त होने के नाते नवरात्र के पूरे नौ दिन उपवास रखेंगे और सनातन धर्म की मान्यताओं के हिसाब से ही जीवन बिताएंगे। इस क्रान्तिकारी शादी की चर्चा जोरों पर है क्योंकि एक झटके में दो व्यक्ति सनातन धर्म में आए हैं और उन्हें अपने पुराने मजहब से अब कोई लेना देना नहीं है।

Check Also

आजमगढ़

आजमगढ़ का निरहुवा

निरहुवा तुम लोकसभा की यह सीट जीतो। योगी जी सुल्तानों और मुगलों की दासता से …