hardik

नीच हार्दिक पटेल

hardik

भारतीय समाज की कमजोरियों को
कमजोर दर कमजोर करते हुए
विकृतियों को
विकृत करते हुए
लाचारियों का शोषण करते हुए
पनपते गए रजनीति के जमूरे
फलती-फूलती गईं
राजनीतिक कम्पनियाँ।
सत्तर साल
गँवा दिए
चार सौ बीसी में।
अब तो
राजनीतिक चार सौ बीसी
कुप्रथा बनकर
खुद संविधान की गर्दन मरोड़ रही है
गाहे-बगाहे।
नया-नवेला प्रतिनिधि
हार्दिक पटेल देखो कैसा
बाजीगर बना इतरा रहा है।
साफ बोल रहा है
कि वह बन चुका है
राजनीतिक नीच
विंसटन चर्चिल था तो दुष्ट
किन्तु उसकी भविष्यवाणी रंग लाई
भारतीय गड्ढे में ले गए
देश का सामाजिक-राजनीतिक इंजन।

                     (virendra dev gaur)

                        chief-editor

Check Also

00

Leave a Reply

Your email address will not be published.