अंतर्राष्ट्रीय धूम्रपान निषेध दिवस : छत्तीसगढ़ को नशामुक्त बनाने ली गई शपथ

-नशामुक्ति के प्रति जन-जागरूकता के लिए हुए कई कार्यक्रम
-भारत माता वाहिनी ने नशामुक्ति के दुष्परिणामों के प्रति किया सचेत
-नशा छोड़ने के लिए योग को अपनाने पर दिया गया जोर

रायपुर (जनसम्पर्क विभाग)। प्रदेश में हर साल की तरह 31 मई को अंतर्राष्ट्रीय धूम्रपान निषेध दिवस मनाया गया। भारत माता वाहिनी ने नशामुक्ति के दुष्परिणामों के प्रति किया सचेतइस अवसर पर समाज कल्याण विभाग द्वारा धूम्रपान से होने वाले दुष्परिणामों के प्रति समाज में जन चेतना विकसित करने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। लोगों ने नशा न करने और छत्तीसगढ़ को नशामुक्त बनाने की शपथ ली। गांव-गांव में भारत माता वाहिनी के माध्यम से नशामुक्ति के दुष्परिणामों के प्रति सचेत किया गया। लोगों को नशा छोड़ने और स्वस्थ जीवन शैली के लिए योग को अपनाने की सलाह दी गई।अंतर्राष्ट्रीय धूम्रपान निषेध दिवस पर धूम्रपान की रोकथाम के संबंध में प्रचार और जन जागृति के प्रयास भी व्यापक स्तर पर किए गए। लोगों को बताया कि तम्बाखू या तम्बाखू से निर्मित उत्पादों के सेवन से गंभीर व्याधियां होती हैं। जन समुदाय को तम्बाखू के सेवन से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे जानकारी देने के साथ नशा मुक्ति पर आधारित साहित्य का वितरण भी किया गया।नशा छोड़ने के लिए योग को अपनाने पर दिया गया जोर रैली और जागरूकता रथ के माध्यम से लोगों को नशापान छोड़ने के लिए प्रेरित किया गया। धूम्रपान और तम्बाखू सेवन करने की प्रवृत्ति पर भावी नियंत्रण के लिए विभिन्न प्रतियोगिताएं और कार्यक्रम आयोजित किए गए। नाटक, गीत, परिचर्चा, सहित सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हुए। योगाचार्यों द्वारा योगाभ्यास प्रदर्शन के साथ योगाभ्यास के माध्यम से नशा छोड़ने के लिए प्रेरित किया गया। जिसमें जन सामान्य, स्वैच्छिक संस्थाओं ने उत्साह से भाग लिया।

Check Also

  मुख्यमंत्री

आमजनों तक नागरिक सेवाओं को पहुंचाने का किया सफल प्रयास:   मुख्यमंत्री बघेल

-अवैध निर्माण के नियमितीकरण की 25 प्रतिशत की राशि निकायों को देने की घोषणा -मोर …