Breaking News

सागर गिरी आश्रम की धार्मिक प्रभात फेरी का बढ़ता दायरा

-नेशनल वार्ता ब्यूरो-

कार्तिक मास में ईश्वर की आराधना में समर्पित साधु संतों का तेगबहादुर मार्ग एवं नेहरू कॉलोनी के श्रद्धालु भरपूर लाभ उठा रहे हैं। श्रद्धालुओं और परमपरमेश्वर के बीच बनने वाली कड़ी के रूप में हमें पूज्य महंत अनुपमा नन्द गिरी महाराज और पूज्य व्यास शिवोहम महाराज मिले हैं जो नित्य कड़़आ पानी स्थित अपने आश्रम से चल कर यहाँ पधारते हैं । श्रद्धालु इन संतों के रूप में साक्षात ईश्वर के दर्शन कर रहे हैं। इनकी लगन और श्रद्धालु प्रेम से लोग गदगद हैं। सागर गिरी महाराज आश्रम में रोज की तरह आज भी धार्मिक उत्सव हुआ जिसमें महिलाओं ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। महिला तो महिला बच्चे भी इस धार्मिक उत्सव में पूरे उत्साह के साथ शामिल रहे। नौजवानों और बुजुर्गों में भी उत्साह की कमी नहीं थी। पूज्य संत अनुपमानन्द गिरी महाराज और पूज्य व्यास शिवोहम बाबा जी के साथ श्रद्धालु इस धर्म यात्रा में पूरी श्रद्धा के साथ शामिल रहे। सागर गिरी महाराज आश्रम से यह धर्म यात्रा प्रभात फेरी के रूप में आश्रम से निकल कर नेहरू कॉलोनी के फव्वारा चौक से होकर भाजपा कार्यालय होती हुए भक्त श्री कामता प्रसाद यादव के पवित्र घर पर विराजमान हुई। यहाँ सागर गिरी निवास के अन्दर देवादिदेव महादेव के मन्दिर के प्रांगण में भजन कीर्तन का सिलसिला चला। धार्मिक प्रभात फेरी के समय जो लोग प्रातः भ्रमण के लिए निकले थे वे भी इस धार्मिक उत्सव से प्रभावित होकर प्रभात फेरी में शामिल होते जा रहे थे। यह धार्मिक उल्लास देखते ही बनता था। कामता प्रसाद जी के सागर गिरी महाराज निवास पर लगभग एक घंटे भजन पूजन होता रहा। इस दौरान श्रद्धालुओं को सत्संग का लाभ भी मिला। प्रभात फेरी के नाम से हो रहा यह धार्मिक उत्सव कई दृष्टिकोण से प्रशंसा के लायक है। श्रद्धालुओं को सुबह जल्दी उठ कर प्रभात फेरी के रूप में व्यायाम करने का अवसर मिल रहा है। इस अवसर पर श्रद्धालु भजन कीर्तन करते हुए हिन्दू देवी देवताओं का स्मरण करते हैं। उन्हें गाते हैं और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करने की कामना करते हैं। घर-घर में सुबह से ही चहल पहल हो जाती है। ब्रह्ममुहूर्त का इससे बढ़िया लाभ भला क्या होगा कि छोटे बच्चे तक भजन कीर्तन में लीन हो रहे हैं। बहुत सुन्दर वातावरण निर्माण हो रहा है। सुबह से ही बच्चे उठ कर तेगबहादुर मार्ग स्थित सागर गिरी आश्रम पहुँच रहे हैं। पूरा क्षेत्र धार्मिक वातावरण से गुंजायमान हो जाता है। सभी प्रसन्न हैं कि उन्हें पूज्य महंत अनुपमा नन्द गिरी महाराज और पूज्य व्यास शिवोहम बाबा का आशीर्वाद इस तरह प्रातः प्राप्त हो रहा है और ये दोनों संत श्रद्धालुओं को परम परमेश्वर से जोड़ रहे हैं। भक्त कामता प्रसाद यादव जी के घर पर एक घंटा उत्सव की धूम रही। प्रवचन हुआ आरती हुई और श्रद्धालुओं को परम आनन्द की प्राप्त हुई। यह धार्मिक उत्सव चलता रहेगा। कल भी इस धार्मिक उत्सव का श्रीगणेश सागर गिरी आश्रम से ही होगा और धार्मिक प्रभात फेरी बलबीर मार्ग स्थिति शिव मन्दिर (निकट आर0के0 मोटर्स) पर आकर रूकेगी और इस पावन शिव प्रांगण में आगे का भजन कीर्तन और प्रवचन सम्पन्न होगा। परसों मंगलवार के दिन धार्मिक प्रभात फेरी का पड़ाव श्रद्धालु श्रीमान भगत सिंह रौथाण के पावन घर पर होगा। जहाँ विधिवत भजन कीर्तन और प्रवचन के रूप में पूज्य महंत अनुपमा नन्द गिरी महाराज और पूज्य व्यास शिवोहम बाबा के माध्यम से श्रद्धालुओं को परमपरमेश्वर की साक्षात दिव्य अनुभूति का लाभ मिलेगा। श्रद्धालुओं से अपेक्षा है कि वे भी इस धार्मिक उत्सव का लाभ उठाएं और ब्रह्ममुहूर्त की सनातन परम्परा को आगे बढ़ाएं। विदित रहे कि सन् 1958 में पूज्य सागर गिरी महाराज दुधली के जंगलों से यहाँ पधारे थे। उन्हें अनुनय विनय करके यहाँ लाया गया था। यह पावन स्थल पूज्य सागर गिरी महाराज की तप स्थली है और इस पावन भूखण्ड में श्रद्धालु वर्षों से अध्यात्म का लाभ उठा रहे हैं। इसीलिए सागर गिरी महाराज धाम की सुरक्षा और सम्मान हम सब श्रद्धालुओं का पावन धर्म है। हम श्रद्धालुओं को सागर गिरी महाराज की इस तपस्थली की दिव्यता और सौम्यता को बनाए रखना है। यह पावन स्थल आने वाले समय में आने वाली पीढ़ियों के लिए भी प्रेरणा का स्रोत बना रहना चाहिए क्योंकि पूज्य सागर गिरी महाराज दिव्य धाम पधारने से पहले यही चाहते थे कि इस पावन स्थली का प्रयोग धार्मिक और अध्यात्मिक कामों के लिए किया जाए ताकि समाज इसका भरपूर लाभ उठा सके। यह धार्मिक उत्सव द्रोणधाम देहरादून के हर मोहल्ले में होना चाहिए। धार्मिक और अध्यात्मिक शक्ति से श्रद्धालु देश की सेवा में बेहतर योगदान दे सकते हैं।

Check Also

सागर गिरी आश्रम से देहरादून चार सिद्ध धाम की चमत्कारी यात्रा

-वीरेन्द्र देव गौड़/एम0एस0 चौहान बीता रविवार देहरादून के लगभग 200 श्रद्धालुओं के लिए किसी चमत्कार …