बुल्डोजर बाबा जान बख्सिए हमारी

जाने लगे हैं थानों में लटकाए तख्तियाँ
नेशनल वार्ता ब्यूरो
बुल्डोजर बाबा का रंग ऐसा जमा कि बदमाशों की भाँग का नशा भँग हो गया। वे जो ललका सेना के फौजी थे और रैलियों में धमकियाँ देने से बाज नहीं आ रहे थे उन्हें ललका सेना की सरकार आने का पूरा भरोसा था। वो भरोसा चकनाचूर हो गया। बुल्डोजर बाबा ने उन आशंकाओं को बुल्डोजर के पहिए के नीचे कुचल कर रख दिया। अब वे सब दंगेबाज और पंगेबाज बुल्डोजर बाबा की शपथ से पहले ही गले पर तख्तियाँ लटका कर शपथ खाने लगे हैं कि वे अब गुनाह नहीं करेंगे। उन्हें गोली न मारी जाए। गिरफ्तार कर लिया जाए। थानों में कतारें लगने लगी हैं। पुलिस अचम्भे में है कि बदमाश खुद ब खुद थानों की ओर कैसे खिंचे चले आ रहे हैं। बाबा ने तो पहले ही कह दिया था कि कुछ लोगों पर जो गरमी चढ़ रही है वह 10 मार्च के बाद उतार दी जाएगी। लिहाजा, गरमी उतरने लगी है। बदमाशी का नशा भी उतरने लगा है। बाबा के पाँच साल बदमाशों पर भारी पड़ने वाले हैं। बदमाश तख्तियों पर लिख कर घरों से बाहर निकलने लगे हैं। उन्हें पता है कि भागने की कोशिश करेंगे तो गोली ठोक दी जाएगी और लंगड़े बन कर रह जाएंगे। दूसरी ओर शपथ से पहले ही बुल्डोजर होली के मूड में माफियाओं के गैर कानूनी ठिकानों पर कहर बन कर टूटने लगा है। महाराज के दूसरे कार्यकाल में अगर कोरोना जैसी कोई भंयकर महामारी प्रलय बन कर न आयी तो आने वाले 5 साल में उत्तर प्रदेश का कायाकल्प होने जा रहा है। पाँच साल में बदमाशों का मनोबल तहस नहस हो जाएगा और राज्य का मनोबल सातवें आसमान पर होगा। -सावित्री पुत्र वीर झुग्गीवाला (वीरेन्द्र देव), पत्रकार, देहरादून।

Check Also

आर्यमगढ़ का निरहुवा

निरहुवा तुम लोकसभा की यह सीट जीतो। योगी जी सुल्तानों और मुगलों की दासता से …

Leave a Reply

Your email address will not be published.