Breaking News
vvv

शहरी मिशनों का छत्तीसगढ़ में हो रहा अच्छा क्रियान्वयन : वैंकेया नायडू

vvv

केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण और शहरी विकास मंत्री वैंकेया नायडू ने छत्तीसगढ़ राज्य में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा करने के बाद अधिकारियों से कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार के विकास कार्यों की स्थानीय बोलियों में भी प्रचार-प्रसार किया जाए ताकि आमजनों तक सरकार की योजनाओं की जानकारी पहुंच सके।  श्री नायडू आज सुबह राजधानी पहुंचे। यहां मुख्यमंत्री निवास में उन्होंने दूरदर्शन, जनसंपर्क और आकाशवाणी के अफसरों के साथ एक बैठक ली। बैठक में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह सहित नगरीय विकास मंत्री अमर अग्रवाल, पर्यावरण एवं आवास मंत्री राजेश मूणत, संसदीय सचिव सुनीती राठिया सहित केन्द्र और राज्य सरकार के संबंधित विभागों के अधिकारी मौज्ूद थे। विभागीय समीक्षा में छत्तीसगढ़ की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि कई मायनों में छत्तीसगढ़ ने स्वच्छता अभियान और आवास योजना के तहत बेहतर काम किया है। समीक्षा बैठक के पश्चात उन्होंने एक प्रेसवार्ता को भी संबोधित किया। प्रेसवार्ता में श्री नायडू ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य में नए शहरी मिशनों के क्रियान्वयन और प्रगति की समीक्षा के निष्कर्षों तथा लोक प्रसारण और सूचना विस्तार कार्यक्रमों को साझा करने के लिए आप सभी का शुक्रिया। केन्द्र और राज्य सरकारों के सचिवों तथा वरिष्ठ अधिकारियों ने कल राज्य के विभिन्न कार्यक्रमों के क्रियान्वयन पर विचारों का आदान-प्रदान किया है। आज मैने मुख्यमंत्री से संयुक्त रूप से इसकी समीक्षा की है। मुझे खुशी है कि यह दो दिवसीय समीक्षा केन्द्र एवं राज्य दोनों के लिए लाभकारी सिद्ध हुई है। पिछले दो सालों में प्रारंभ किए गए पांच नए शहरी मिशनों के क्रियान्वयन राज्य में ठीक ढंग से हो रहा है। मिशन के कार्यों को और बेहतर ढंग से क्रियान्वित करने के लिए अधिक ध्यान देने योग्य क्षेत्रों की पहचान भी हुई है।  स्वच्छ भारत मिशन अक्टूबर 2014 में प्रारंभ किया गया है। अन्य प्रमुख मिशन जैसे कि अटल नवीनीकरण और शहरी परिवर्तन मिशन (अमृत) स्मार्ट सिटी मिशन और प्रधानमंत्री आवास योजना 25 जून 2015 से प्रारंभ किए गए। ये सभी नए शहरी मिशन राज्य तथा स्थानीय निकायों और अन्य हितधारकों के साथ लगभग एक वर्ष के परामर्श के पश्चात प्रारंभ किए गए थे। सभी नए शहरी मिशनों का उद्देश्य एकीकृत तरीके से किफायती आवास सहित शहरी अधोसंरचना की कमी को दूर करना है। विगत दो सालों में शहरी विकास के प्रति हमारे दृष्टिकोण में काफी बदलाव आया है। इसमें शहरी नियोजन और प्रबंधन में नागरिक भागीदारी, नए मिशनों के अंतर्गत उद्देश्य तथा प्रतियोगिता आधारित चयन, अधोसंरचना में कमी को दूर करने के लिए विस्तृत शहरवार कार्ययोजनाएं बनाना, परियोजना बनाने तथा मूल्यांकन के लिए राज्यों एवं शहरी सरकारों को सशक्त बनाना। शहरी सरकारों के संसाधनों में वृद्धि करना, प्रमुख शहरी सुधारों के मूल्यांकन को प्रोत्साहन देना तथा बेहतर ढंग से कार्य करने के लिए देश में शहरों तथा कस्बों के बीच स्वस्थ्य प्रतियोगिता की भावना को बढ़ाने के लिए विभिन्न पहलूओं पर शहरों की रैकिंग करना। अभी तक विभिन्न नए स्कीमों की प्रगति की समीक्षा करने के लिए मैने 19 राज्यों और संघ शासित प्रदेशों की राजधानियों का दौरा किया है। समीक्षा के लिए छत्तीसगढ़ 20वां राज्य है। मुझे खुशी है कि यह केन्द्र तथा राज्य सरकारों दोनों के लिए अत्यधिक उपयोगी सिद्ध हो रहा है।  श्री नायडू ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा प्रस्तावित सुधार करें, काम करें ओर परिवर्तन करें के दृष्टिकोण के अंतर्गत देश में शहरी परिवर्तन एक निश्चिति आकार ग्रहण कर रहा है। यह शहरी नियोजन और निष्पादन परियोजना तैयार कर उनके क्रियान्वय तथा इन कार्यों पर किए जा रहे निवेशों को स्किल, स्पीड और स्केल के रूप में देखा जा सकता है।  उन्होंने कहा कि अत्यंत हर्ष हो रहा है कि छत्तीसगढ़ राज्य, शहरी जीवन स्तर में सुधार लाने तथा शहरी विकास पर नए सिरे से ध्यान केन्द्रित करने के अवसरों का लाभ लेने की आवश्यकता को समझते हुए इस क्षेत्र में कार्य करते हुए अग्रणी रहा है। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी मिशन के अंतर्गत, विभिन्न उत्साहजनक परियोजनाओं का क्रियान्वयन रायपुर स्मार्ट सिटी द्वारा किया जा रहा है जैसे शहरी यातायात प्रबंधन हेतु एकीकृत कमांड एवं नियंत्रण केन्द्र की स्थापना, जिससे सुदृढ़ यातायात प्रबंधन प्रणाली, शहरी निगरानी प्रणाली आदि के माध्यम से नागरिक सुरक्षा और नागरिक सेवाओं को बेहतर किया जा सके। दूसरा मोतीबाग, विवेकानंद सरोवर और अर्बन प्लाजा जैसे सार्वजनिक खुले स्थानों के विकास से हरित और एकीकृत स्थलों के विकास के साथ ही नागरिकों के जीवन यापन की स्थिति में सुधार होगा। गैर, मीटरीकृत परिवहन को बढ़ावा देने तथा सड़क परिवहन क्षमता को बढ़ाने एवं नगरीय क्षेत्रों में स्थलों की अधिक उपयोगिता के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए गैर मोटरीकृत परिवहन वाहनों के लिए चार्जिंग स्टेशनों सहित 20 स्थानों पर एकीकृत पार्किंग स्थलों का विकास।  श्री नायडू ने कहा कि मुझे यह जानकारी काफी खुशी हुई कि शहर में बाधामुक्त फुटपाथ, स्मार्ट पब्लिक ट्रांजिट स्टेशन, दिव्यांग हितैशी स्ट्रीट पार्किंग जोन, दिव्यांग हितैशी ट्रैफिक लाइट आदि का क्रियान्वयन भी किया जा रहा है। यहां सरकारी भवनों (स्टेडियम, स्टेशन आदि) स्कूलों, सार्वजनिक और निजी संस्थाओं में रूफटाप सोलर पैनर स्थापित किए जाने हेतु योजना तैयार की जा रही है, जिससे गैर पारंपरिक स्त्रोतों से न्यूनतम 10 प्रतिशत ऊर्जा आवश्यकताओं की पूर्ति सुनिश्चित होगी……….

Check Also

बेटियाँ है तो सृष्टि है-स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश (दीपक राणा )। अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर परमार्थ निकेतन में विभिन्न गतिविधियों …

Leave a Reply

Your email address will not be published.