योगी ने किया गर्भगृह शिला पूजन, 1 जून 2022

-बोले पाँच सौ साल तड़पा हिन्दू

एम एस चौहान एवं वीरेन्द्र देव गौड़

आज उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने श्रीराम को समर्पित होने वाले भव्य मंदिर के गर्भगृह का शिला पूजन विधिवत सम्पन्न किया। वैदिक मंत्रोचार की पावन बेला के बीच योगी जी ने गर्भगृह की पहली शिला रखी। इसी क्षण से गर्भगृह का निर्माण कार्य आरम्भ हो चुका है। देश भर से करीब 200 समर्पित राम भक्त इस अवसर पर विराजमान रहे। ये रामभक्त श्रीराम मंदिर के लिए चले आंदोलन के आंदोलनकारी हैं। इनमें से कई विभूतियाँ जाने माने धर्मगुरु भी हैं। राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को इस पावन काज के लिए चुना। मुख्यमंत्री योगी का अयोध्या को लेकर विशेष भावनात्मक लगाव है। वे मुख्यमंत्री रहते कई बार अयोध्या जा चुके हैं। उनका शुरू से ही कहना है कि अयोध्या धाम को भारत के सबसे प्रतिष्ठित धाम के रूप में विकसित किया जा रहा है। श्रीराम मंदिर निर्माण के साथ-साथ अयोध्या धाम की सड़कों और धर्माटन स्थलों के साथ-साथ पर्यटन स्थलों को भी उन्नत किया जा रहा है। अयोध्या धाम को भारत की ही नहीं बल्कि संसार की सुप्रसिद्ध तीर्थ स्थली के रूप में सजाया जा रहा है। ताकि राम भक्त अयोध्या धाम पहुँच कर गौरव का अनुभव कर सकें। मुख्यमंत्री योगी ने आज यह भी दोहराया कि अयोध्या धाम के विकास से पूरे अवध क्षेत्र के विकास को गति मिलेगी। उनके अनुसार श्रीराम मंदिर के निर्माण से देश के विकास की अन्य अड़चनें  भी दूर होंगी। आक्रांताओं के द्वारा हिन्दुओं को नीचा दिखाने और पीड़ा पहुँचाने के बर्बर कारनामों से देश को मुक्ति मिलेगी। योगी जी ने परोक्ष रूप से ज्ञानवापी और कृष्ण जन्म भूमि की मुक्ति को लेकर विश्वास जताया। उन्होंने कहा कि राम भक्तों की पाँच सौ साल की तड़प अब समाप्त होगी। लगभग एक साल पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी ने श्रीराम मंदिर का भूमि पूजन सम्पन्न किया था। भूमि पूजन के शुभ अवसर पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत भी विराजमान थे। गर्भगृह के शिला पूजन से रामभक्तों में मंदिर निर्माण को लेकर नए सिरे से उत्साह बढ़ गया है। योगी जी ने इस अवसर पर मंदिर निर्माण के शिल्पकारों और कारीगरों को वस्त्र भेंट कर सम्मानित भी किया। तराशी गई शिलाओं के सौन्दर्य को निखारने के लिए देश के भिन्न- भिन्न हिस्सों से कई महिलाएं भी आई हुई हैं। ये महिलाएं अपने इस काम को श्रीराम के प्रति श्रद्धा का नतीजा बता कर प्रसन्नता का अनुभव कर रही हैं। 

Check Also

काँवड़

मुख्यमंत्री धामी और उनकी पुलिस की काँवड़ मेला उपलब्धि

वीरेन्द्र देव गौड़ और रितेश चौहान हरिद्वार से लौटकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के मार्गदर्शन …