Breaking News
Uttarakhand प्रदेश: NHM कर्मचारियों को खुशखबरी पितृत्व और बाल्य देखभाल अवकाश मिलेगा

Uttarakhand प्रदेश: NHM कर्मचारियों को खुशखबरी पितृत्व और बाल्य देखभाल अवकाश मिलेगा

NHM में तैनात कर्मचारियों को अवकाश लाभ मिलेगा। इसके अलावा, राज्य में डॉक्टरों की कमी को दूर करने के लिए यू कोड वी पे योजना का चौथा चरण शुरू होगा।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (NHM) में काम करने वाले साढ़े पांच हजार कर्मचारियों को भी बाल्य देखभाल अवकाश मिलेगा। शुक्रवार को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण समिति की कार्यकारिणी बैठक में, सचिव स्वास्थ्य डॉ. आर राजेश कुमार की अध्यक्षता में, कर्मचारियों को शासन की नियमावली के अनुसार अवकाश देने का निर्णय लिया गया।

प्रदेश सरकार ने कई विभागों के कर्मचारियों को बाल दत्तक अवकाश, बाल देखभाल और पितृत्व अवकाश का लाभ दिया है। NHM में तैनात कर्मचारियों को इसी तरह का अवकाश लाभ मिलेगा। इसके अलावा, राज्य में डॉक्टरों की कमी को दूर करने के लिए यू कोड वी पे योजना का चौथा चरण शुरू होगा। अब तक, योजना के तहत राज्य में 57 विशेषज्ञ चिकित्सकों की नियुक्ति की गई है।

इनमें सर्जन, गायनोलॉजिस्ट, रेडियोलॉजिस्ट, ऑर्थोपेडिक, एनेस्थेटिक, पैथोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिशन और मनोचिकित्सक शामिल हैं। इन्हें पर्वतीय क्षेत्रों में रिक्त पदों पर नियुक्त किया गया था। NHM मिशन की निदेशक स्वाति भदौरिया, अपर सचिव अमनदीप कौर, निदेशक स्वास्थ्य सुनीता टम्टा, प्रभारी अधिकारी डॉ. अमित शुक्ला, डॉ. राजन अरोड़ा, डॉ. पंकज कुमार, डॉ. फरीदुजफर, डॉ. मुकेश रॉय, महेंद्र मौर्य, कविता कौशल और महेंद्र मौर्य ने बैठक में भाग लिया।

दून, हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज में पैथोलॉजी जांचों की देखभाल

बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि अब राजकीय मेडिकल कॉलेज देहरादून और हल्द्वानी सरकारी अस्पतालों में चंदन पैथोलॉजी से की जा रही 270 निशुल्क जांच की निगरानी करेंगे। ये मेडिकल कॉलेज स्वतंत्र रूप से पैथोलॉजी जांच की गुणवत्ता की जांच करेंगे। हल्द्वानी मेडिकल कॉलेज को कुमाऊं क्लस्टर और दून मेडिकल कॉलेज को गढ़वाल क्लस्टर बनाया गया।

Check Also

संस्कृति विभाग ने लोक सांस्कृतिक दलों एवं एकल लोक गायको को मचीय प्रदर्शन के आधार पर सूचीबद्ध

देहरादून (सू0वि0)। संस्कृति विभाग, उत्तराखंड द्वारा प्रदेश के लोक सांस्कृतिक दलों एवं एकल लोक गायको …