Breaking News
bro

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से (बीआरओ) द्वारा बनाए गए 44 पुलों को राष्ट्र को किया समर्पित

bro

देहरादून (सू0 वि0) केंद्रीय रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से 7 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा बनाए गए 44 पुलों को राष्ट्र को समर्पित किया। रक्षा मंत्री ने अरूणाचल प्रदेश के तवांग मार्ग में नेचीफु सुरंग की आधारशिला भी रखी। राष्ट्र को समर्पित किए गए पुलों में उत्तराखण्ड में 08, अरूणाचल प्रदेश में 08, हिमाचल प्रदेश में 02, जम्मू कश्मीर में 10, लद्दाख में 08, पंजाब में 04 और सिक्किम में 04 पुल शामिल हैं। इन 44 पुलों का कुल स्पान 3506 मीटर है। उत्तराखण्ड के 08 पुलों का कुल स्पान 390 मीटर है। रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि एक साथ इतने पुलों का उद्घाटन और सुरंग की आधारशिला रखना बहुत बड़ा रिकार्ड है।

bro 2

इससे सीमावर्ती क्षेत्रों में कनेक्टीवीटी और विकास का नया युग प्रारम्भ होगा। देश में कोविड19 में सभी क्षेत्र प्रभावित हुए हैं। पाकिस्तान व चीन के साथ हमारी बड़ी सीमा मिलती है, जहां तनाव बना रहता है। हम प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में इन सभी समस्याओं का सफलतापूर्वक सामना कर रहे हैं। हाल ही में अटल टनल का उद्घाटन किया गया था। सीमावर्ती क्षेत्रों में रक्षा के साथ ही विकास में बीआरओ की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। इन पुलों के बनने से स्थानीय आकांक्षाओं की पूर्ति होगी और सेना तक आवश्यक सामग्री पहुंचानें में मदद मिलेगी। सामरिक आवश्यकताओं को पूरा करने में इनकी बड़ी उपयोगिता है।

bro1

इससे दूरदराज के क्षेत्र, विकास की मुख्यधारा से जुड़ सकेंगे। केंद्रीय मंत्री ने बीआरओ की सराहना करते हुए कहा कि पिछले 45 वर्षों में बीआरओ के बजट को लगभग तीन गुना किया गया है। हमें इसके परिणाम भी देखने को मिले हैं। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने देश के सीमावर्ती क्षेत्रों में 44 पुलों के निर्माण के लिए रक्षा मंत्री का आभार व्यक्त करते हुए बीआरओ के अधिकारियों, इंजीनियरों और सभी कार्मिकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इन सभी पुलों का सामरिक दृष्टि से तो महत्व है ही, स्थानीय लोगों को भी इसका बहुत लाभ मिलेगा। उत्तराखण्ड में बनाए गए पुलों से कैलाश मानसरोवर यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं और पर्यटकों को भी सुविधा होगी। इसका क्षेत्र की आर्थिकी पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। पिथौरागढ़ में पुलों की लम्बे समय से मांग थी और सपना जैसा लगता था। आज क्षेत्रवासियों का ये सपना साकार हुआ है। ऐसे दुर्गम क्षेत्रों में कम समय में पुलों का उच्च गुणवत्ता के साथ निर्माण पूरा करना सरकार की प्रतिबद्धता और बीआरओ की कुशलता को बताता है। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री डाॅ. जीतेंद्र सिंह, श्री किरन रिजूजू, सांसद श्री अजय टम्टा, चीफ डिफेंस आॅफ स्टाफ जनरल विपिन रावत, आर्मी प्रमुख जनरल एम.एम. नरवणे, डीजीपी बीआरओ श्री हरपाल सिंह सहित संबंधित राज्यों के मुख्यमंत्री, उपराज्यपाल व मंत्री, सांसद, वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

Check Also

Chhattisgarh में आत्महत्या: दुर्ग जिले में आत्महत्या के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, अब दो लोग और मारे

दुर्ग के कातुलबोर्ड थाना क्षेत्र के निवासी प्रतीक साहू ने अपने घर में फांसी लगाकर …

19 comments

  1. netovideo.com
    Zhu Houzhao의 말은 날카로웠지만 이 아이는 항상 이랬습니다.

  2. digiapk.com
    Fang Jifan … 그는 공무원이 아닌데 내각에 합류하려면 어떤 자격이 필요합니까?

  3. chasemusik.com
    하지만… 이 돼지고기는 그들이 전에 본 돼지고기와는 정말 다릅니다.

  4. agonaga.com
    Ma Wensheng이 급히 오는 것을 보자 Liu Jian은 뭔가 잘못되었음을 느꼈습니다.

  5. baseballoutsider.com
    Fang Jifan의 얼굴이 씰룩 거리며 최선을 다해 웃었습니다. “예.”

  6. agonaga.com
    “미인이 무슨 미인이냐?” 황후는 어리둥절한 표정을 지었다.

  7. 10yenharwichport.com
    이것을 생각한 Hongzhi 황제는 Xiao Jing을 다시 흘끗 보았습니다.

  8. socialmediatric.com
    하지만 이 10대들은 이미 활시위를 끝까지 당겼고 그들의 손은… 매우 안정적입니다.

  9. tsrrub.com
    이 수많은 질문은 Zhou Yi를 어지럽게 만들었습니다.

  10. digiapk.com
    바깥에서의 추격은 점점 더 빡빡해져서 그를 패닉에 빠뜨렸다.

  11. 10yenharwichport.com
    그녀의 눈은 충혈되고 충혈 된 것 같았고 Zhu Houzhao를 굳게 응시했습니다.

  12. smcasino7.com
    Ma Wensheng의 심장이 바닥으로 가라 앉았습니다. 그럴까요 … 그리고 …

  13. lfchungary.com
    Fang Jifan은 이것을 들었을 때 Hongzhi 황제의 우려도 이해했습니다.

  14. sm-online-game.com
    그는 이해할 수 없다는 듯이 탕인을 바라보았지만 그의 몸은 숙여졌다.

  15. pragmatic-ko.com
    아무래도… 내 연기는 궁궐의 군주와 신하들의 바람과 정확히 일치하는 것 같군.

  16. hihouse420.com
    그렇다면 더 키가 크고 고급스러워지지 않겠습니까?

  17. pragmatic-ko.com
    그녀는 멍해 보였고 그녀와 같은 사람들이 적지 않았습니다.

  18. sm-casino1.com
    이 사업은 아침의 평온함을 깨고 Wu Zai가 서둘러 이곳에 왔습니다.

  19. pragmatic-ko.com
    잠시 후 내시가 달려와 말했다. “폐하…”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *