Breaking News

Gyanvapi अध्ययन: ASI ने सर्वे रिपोर्ट देने के लिए तीन हफ्ते का अतिरिक्त समय मांगा, कल सुनवाई होगी।

ज्ञानवापी परिसर की सर्वे रिपोर्ट जमा करने के लिए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) ने जिला जज की अदालत से तीन सप्ताह का समय मांगा है। 29 नवंबर को इस पर जिला अदालत में सुनवाई होगी। आज एक अधिवक्ता की निधन की वजह से सुनवाई नहीं हुई।

21 जुलाई को जिला जज डॉ. अजय कृष्ण विश्ववेश की अदालत ने ज्ञानवापी परिसर का सर्वे करने का आदेश दिया। 24 जुलाई को अंजुमन इंतेजामिया मसाजिद कमेटी सुप्रीम कोर्ट पहुंची जब एसआई ने सर्वे शुरू किया। सर्वे के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी और मसाजिद कमेटी को इलाहाबाद हाईकोर्ट में जाना पड़ा।

चार अगस्त को, हाईकोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनकर जिला जज के आदेश को सही ठहराया। ASI ने चार अगस्त से सर्वे शुरू किया और अक्तूबर अंत तक चला। ASI ने दो नवंबर को जिला जज की अदालत को बताया कि सर्वे पूरा हो गया है, लेकिन रिपोर्ट देने के लिए अधिक समय चाहिए।

GPR तकनीक से सर्वे की रिपोर्ट बनाने में समय लगेगा। समयसीमा दो बार बढ़ाई गई थी। समयसीमा मंगलवार को पूरी हो जाएगी। इस बार रिपोर्ट दाखिल होने की उम्मीद है।

मसाजिद कमेटी का विवाद

सर्वे का मामला लंबे समय से अटक गया है। अंजुमन इंतेजामिया मसाजिद कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट में जिला जज की अदालत का आदेश चुनौती दी। इलाहाबाद हाईकोर्ट में मामला पहुँचा। जब सर्वे शुरू हुआ, अंजुमन इंतेजामिया मसाजिद कमेटी में विवाद हुआ।

कमीटी ने हिंदू पक्ष और Asi पर मनमानी का आरोप लगाया और सर्वे को दो दिनों के लिए रोक दिया। सर्वे को बाद में जिला जज की अदालत ने आगे बढ़ाने का आदेश दिया, जिससे मामला सुलझ सका। अब रिपोर्ट मिलने और मामले की सुनवाई होने का इंतजार है।

 

Check Also

बीजेपी के युवा नेता चंद्रेश सिंह का हृदयगति रूकने से निधन

-नेशनल वार्ता न्यूज कानपुर (जितेन्द्र सिंह)। अपने सौम्य, मिलनसार स्वभाव बहुचर्चित युवा नेता के तौर …