Breaking News

Dream of bullet project is going to materialise by 2026

Budget 2022-2023 targets to revolutionise indian railway

-नेशनल वार्ता ब्यूरो-

बीते कल का बजट भले ही सीधे-सीधे बुलट ट्रेन (bullet train) की बात न करता हो लेकिन इस बजट में रेलवे के विकास के लिए जितनी राशि का प्रावधान (provision) किया गया है वह स्वतंत्र भारत के इतिहास में एक रिकॉर्ड (record) है। तभी तो रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव प्रसन्न (cheerful) दिखाई दे रहे हैं। उन्हें इस बात की खुशी है कि वे चालू वर्ष में रेलवे के प्रचार-प्रसार और विकास का काम जमकर करेंगे। यही नहीं यह बजट वन्दे मातरम् की रेलों को भी उच्चीकृत (hitech) करने का संकल्प पूरा करने जा रहा है। उम्मीद है कि 2026 तक बुलट ट्रेन भी भारत की जमीन पर दौड़ने लगेंगी। इसके लिए कार्य युद्धस्तर (war footing) पर चल रहा है। सूरत में इसी कार्य को तेजी से सम्पन्न करने के लिए पूरी व्यवस्था सुचारू रूप से काम कर रही है। मुम्बई और अहमदाबाद के बीच बुलट ट्रेन चलाई जाएगी। 508.17 किलोमीटर लम्बा ट्रैक निर्माणाधीन (under construction) है। ये बुलट ट्रेनें 320 किलोमीटर प्रति घण्टा यानि 200 मील प्रति घण्टा की रफ़्तार से ट्रैक से कुछ ऊँचाई पर दौड़ेंगी नहीं बल्कि उड़ेंगी। कल घोषित किया गया बजट भारत के आर्थिक-सामाजिक (eco-social) परिदृश्य (face) को बदलकर रख देने वाला है। यह बजट मोदी सरकार की आगामी चुनौतियों को स्वीकार करने वाला बजट है। यह बजट आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर मतदाताओं को रिझाने (attract) में भले ही कामयाब न रहे परन्तु यह बजट भारत के उत्त्थान (upliftment) के लिए मील का पत्थर (milestone) सिद्ध होने जा रहा है। जहाँ तक बुलट ट्रेन का मामला है यह प्रोजेक्ट (project) आशा से अधिक तेज गति से चल रहा है और रेल मंत्री के विश्वास (confidence) पर यकीन करें तो 2026 में यह हकीकत हमें रोमांचित कर रही होगी और भारत के लोग विश्वास से भर जाएंगे। -सावित्री पुत्र वीर झुग्गीवाला (वीरेन्द्र देव), पत्रकार,देहरादून 

Check Also

.

  वीरेन्द्र देव गौड़/सावित्री पुत्र वीर झुग्गीवाला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *