Breaking News

देहरादून के इतिहास का एक पन्ना

-डाकू कलवा का दून में आतंक

-अंग्रेज आतंकित रहते थे कलवा से

स्रोत: देहरादून का इतिहास

लेखक: जी आर सी विलियम्स

अनुवाद: प्रकाश थपलियाल

पोर्टल पर लेखक: वीरेन्द्र देव गौड़ एवं एम0एस0 चौहान

पुस्तक प्राप्त हुईः दून लाइब्रेरी देहरादून, परेड मैदान

अंग्रेज प्रबन्धक शोरी ने प्रशासक के रूप में दून में 22 फरवरी 1823 से लेकर फरवरी 1829 तक दून में शासन किया। उसके शासन के दौरान उसे एक अजीबोगरीब डकैत से मुकाबला करना पड़ा। डकैत की कलवा के नाम दून और आसपास के क्षेत्रों में दहशत थी। कलवा छापामार तरीके से आक्रमण कर लूटपाट के बाद छूमंतर हो जाया करता था। वह पेशे से डकैत था और उसे अंग्रेजों से नफरत थी। शोरी ने दून के प्रबन्धन को ढर्रे पर लाने के लिए बहुत मेहनत की थी। लेकिन, कलवा शोरी के लिए चुनौती बन गया था। शुरू में तो शोरी को लगा कि कलवा एक अफवाह मात्र है। क्योंकि , वह लूटपाट इस अंदाज में करता था कि पीछे कोई सबूत नहीं छोड़ता था। तब देहरादून सहारनपुर जिले में था। शोरी को लगा कि कलवा को समाप्त किए बिना उसके सुधार कार्य बेअसर रहेंगे। लिहाजा, शोरी ने कलवा को एक हकीकत मानकर उसके आतंक से जनपद सहारनपुर को मुक्त करने का फैसला किया। कल्लू या कलवा अनुशासित डकैतों के एक बड़े गैंग का मुखिया था। जिसका आतंक गंगा के दोनों ओर था। 1823 की वसंत में कार्यवाहक मजिस्ट्रेट मि0 ग्लिन को कानून व्यवस्था देख रही अपनी पुलिस की सहायता के लिए सिरमौर बटालियन का एक दस्ता मंगाना पड़ा। 31 मार्च 1823 को मि0 शोरी को गुप्त सूचना मिली कि देहरा और हरद्वार के बीच के जंगल में डकैतों के कुछ दल सक्रिय हैं। इसी तरह की सूचना कैप्टेन यंग के पास भी थी। डाकुओं को भनक लग गयी कि प्रशासन उनके बारे में जान चुका है। आनन फानन में डकैत सहारनपुर भाग गए। फिर मई 1824 में मि0 शोरी को गुप्त सूचना मिली कि देहरा के निकट नवादा में कुछ डाकू देखे गए हैं। डाकुओं का एक गिरोह कालूवाला दर्रे से दून में दाखिल हुआ और गांव को लूट कर गायब हो गया। डाकुओं का पीछा किया गया किन्तु वे पकड़ में नहीं आए। एक बार फिर शोरी को लगा कहीं कलवा लोगों का भ्रम तो नहीं। किन्तु शोरी ने छानबीन जारी रखी। वह इस नतीजे पर पहुँचा कि कलवा और उसके साथ कोई और नहीं बल्कि शिवालिक की तलहटी के गाँवों के लोग हैं। वर्ष 1824 के जाड़ों में ही कलवा ने अपने सहायक कुँवर और भूरा के साथ अपनी जाति के कुछ लोगांे और रांगड़ों को मिलाकर एक बड़ा गिरोह तैयार किया। यह गिरोह तलवारों, भालों और बन्दूकों से लैस था। कलवा का मुख्यालय रूड़की से कुछ मील पश्चिम में कुंजा के किले में था। यह किला लंढ़ौरा के एक परिवार के सम्बन्धी बिजे सिंह का था। बिजे सिंह 40 गाँवों का तालुकदार था। इसका प्रभाव मेरठ और मुरादाबाद तक था। जब कलवा के एक गिरोह ने भगवानपुर में लूटमार की तब शोरी को यकीन हुआ कि कलवा भ्रम नहीं एक हकीकत था। कुछ समय बाद कलवा ने अपना नाम बदलकर कल्याण सिंह रख लिया। उसके गिरोह के सदस्यों की संख्या 1,000 हो गयी थी। जिसके सामने पुलिस बल कहीं नहीं ठहरता था। साथ में उसने यह भी घोषणा कर दी कि वह विदेशी दासता को उखाड़ फेंकेगा। यह घोषणा सुनकर शोरी का सर चकरा गया। वह सामने खड़ी आफत से चिंता में पड़ गया। अब प्रशासन ने गोरखा सेना नायक की ताकत का इस्तेमाल कर कलवा के आतंक को समाप्त करने का बीड़ा उठाया। कलवा अब तक राजा कल्याण सिंह बन चुका था। लिहाजा, गोरखा सेना नायक ने स्थानीय अधिकारियों और 200 सामान्य सैनिकों को लेकर कुंजा नामक स्थान को घेर लिया। कुंजा में एक किला था जिसमें कल्याण सिंह और उसके डकैत साथी मोर्चा संभाले हुए थे। वे भी आर पार की लड़ाई का मन बनाए हुए थे। उन्होंने गोरखों को पहाड़ी बन्दर कहकर उनका मजाक उडाया। गोरखे क्रोधित हो गए। गोरखों की ओर गोलियों की बौछार कर दी गयी। संयोग की बात है कि पहली बौछार में ही डाकुओं का सरदार कलवा ढेर हो गया और उसकी सेना में भगदड़ मच गयी। गोरखों ने किले को भी मटियामेट कर दिया। मि0 शोरी ने भी इस मुकाबले में पराक्रम दिखाया था। इस तरह कलवा के आतंक का खात्मा हुआ।

Check Also

प्राविधिक शिक्षा विभाग के अन्तर्गत राज्य स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता 2023

-नेशनल वार्ता ब्यूरो     देहरादून। उत्तराखण्ड़ प्राविधिक शिक्षा विभाग द्वारा महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कालेज …

25 comments

  1. Dear nationalwartanews.com owner, You always provide great examples and real-world applications.

  2. Thanks a lot for giving everyone such a pleasant opportunity to read in detail from here. It’s usually so amazing and as well , stuffed with fun for me personally and my office acquaintances to visit your site at least thrice weekly to learn the new tips you have got. And of course, we are actually fascinated for the perfect advice you serve. Certain two tips in this article are rather the most efficient I have ever had.

  3. Hey There. I found your blog using msn. This is an extremely well written article. I’ll be sure to bookmark it and return to read more of your useful info. Thanks for the post. I will definitely comeback.

  4. Hi nationalwartanews.com admin, Excellent work!

  5. Hi nationalwartanews.com administrator, Your posts are always informative and well-explained.

  6. Wonderful internet site you’ve going here. [url=http://www.dong-joo.co.kr/bbs/board.php?bo_table=free&wr_id=582445]anafranil disponible en Argentina[/url]

  7. Good day! I know this is somewhat off topic but I was wondering which blog platform are you using for this site? I’m getting fed up of WordPress because I’ve had issues with hackers and I’m looking at options for another platform. I would be great if you could point me in the direction of a good platform.

  8. Hi! This is kind of off topic but I need some help from an established blog. Is it difficult to set up your own blog? I’m not very techincal but I can figure things out pretty quick. I’m thinking about creating my own but I’m not sure where to start. Do you have any ideas or suggestions? Appreciate it

  9. I have been surfing on-line more than 3 hours today, yet I by no means found any fascinating article like yours. It is beautiful value enough for me. In my opinion, if all webmasters and bloggers made good content as you did, the net will likely be much more helpful than ever before.

  10. I like what you guys are up also. Such clever work and reporting! Carry on the excellent works guys I’ve incorporated you guys to my blogroll. I think it’ll improve the value of my site 🙂

  11. My coder is trying to convince me to move to .net from PHP. I have always disliked the idea because of the expenses. But he’s tryiong none the less. I’ve been using WordPress on various websites for about a year and am anxious about switching to another platform. I have heard very good things about blogengine.net. Is there a way I can transfer all my wordpress content into it? Any help would be really appreciated!

  12. What Is Puravive? Puravive is a weight loss supplement that works to treat obesity by speeding up metabolism and fat-burning naturally.

  13. Magnificent beat ! I would like to apprentice even as you amend your web site, how can i subscribe for a weblog site? The account helped me a appropriate deal. I were tiny bit familiar of this your broadcast provided vibrant clear concept

  14. hi!,I really like your writing very so much! proportion we keep up a correspondence more approximately your article on AOL? I need an expert on this space to unravel my problem. May be that is you! Having a look forward to peer you.

  15. I have been surfing on-line greater than 3 hours nowadays, yet I never discovered any attention-grabbing article like yours. It is lovely worth enough for me. In my opinion, if all web owners and bloggers made just right content material as you probably did, the net shall be much more useful than ever before.

  16. Helpful information. Fortunate me I discovered your web site unintentionally, and I am shocked why this accident didn’t took place in advance! I bookmarked it.

  17. You completed some fine points there. I did a search on the subject and found most folks will agree with your blog.

  18. Hello! I know this is somewhat off topic but I was wondering if you knew where I could locate a captcha plugin for my comment form? I’m using the same blog platform as yours and I’m having problems finding one? Thanks a lot!

  19. Perfect work you have done, this site is really cool with great information.

  20. After all, what a great site and informative posts, I will upload inbound link – bookmark this web site? Regards, Reader.

  21. Its such as you learn my thoughts! You appear to understand so much approximately this, like you wrote the book in it or something. I feel that you can do with a few to power the message house a bit, however other than that, that is great blog. An excellent read. I’ll definitely be back.

  22. To the nationalwartanews.com administrator, Nice post!

  23. Puravive is a natural weight loss supplement and is said to be quite effective in supporting healthy weight loss.

  24. I will immediately clutch your rss feed as I can not in finding your e-mail subscription hyperlink or e-newsletter service. Do you have any? Kindly allow me recognise so that I may just subscribe. Thanks.

  25. I don’t even know how I ended up here, but I thought this post was good. I don’t know who you are but certainly you’re going to a famous blogger if you aren’t already 😉 Cheers!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *