Breaking News

झोपड़ी वाला राजा नेहरू कॉलोनी देहरादून का सुभाष

सुभाष जी ने पुत्रों से कहा था पढ़ाई से ही बढ़ेगा मान-सम्मान
एक ध्याड़ी मजदूर की दरियादिली
-वीरेन्द्र देव गौड, एम.एस. चौहान-
झोपड़ी में रहे। ध्याड़ी मजदूरी करते रहे। पहले छज्जे के नीचे रहे फिर बरसों तक झोपड़ी में गुजर-बसर की और अब नेहरू कॉलोनी में किराए के मकान में रह रहे हैं दो एम.बी.बी.एस डॉक्टरों के पिता। एक लड़का डॉक्टर बन चुका है और करीब आठ महीनों से सरकारी अस्पताल में अपनी सेवाएं दे रहा है और दूसरा पुत्र डॉक्टर बनने ही वाला है। सुभाष, जिनके जीवन की व्यथा-कथा और सफलता हम यहाँ लिख रहे हैं वे भयानक संघर्ष की कड़वाहट से नहीं भरे। बल्कि, उनके अन्दर मानवीयता की ऐसी मिठास है जो संतों में भी नहीं पाई जाती। उन्होंने अपने संघर्ष में ऐसा कौन सा कठिन मोड़ नहीं देखा जो आदमी के इरादों को बिखेर कर नहीं रख देता है। चालीस साल पहले पुराने जमाने की प्रेस में उन्होंने कम्पोजिंग से रोटी कमाना शुरू किया था। इसी काम में उन्होंने फिर ठेकेदारी भी की। इसके बाद ट्रकों पर ईटें चढ़ाईं-उतारीं। ठेली खरीदकर कच्छे-बनियान बेचे। ठेली पर सब्जियाँ और मूँगफलियाँ बेचीं। इस तरह पिता के सरकारी नौकरी पर रहते हुए भी उन्होंने दर-दर की ठोकरें खाकर अपनी रोटी खुद कमाई। छोटी उम्र में शादी हुई। फिर दो बच्चे हुए। विकट संघर्ष लगातार चलता रहा। हिम्मत नहीं हारी। कुछ भले लोगों के सहयोग से एक लड़के को सरकारी डॉक्टर बना चुके हैं और दूसरा बनने वाला है। अब सुभाष जी नेहरू कॉलोनी में किराए के मकान में रह रहे हैं। कई साल पहले कुछ दोस्तों के सहयोग से किसी तरह एक लोडर खरीदी थी। फिर 2007 में टैम्पो खरीदा और अब तो सुभाष जी बोलेरो के मालिक हैं। आज भी वही कर्मठता। अब राजा दिल के सुभाष गरीबों को धन देकर उनकी पढ़ाई-लिखाई में मदद करने लगे हैं। उनका ऐलान है कि वे अपने जीवन के अंतिम पल तक गरीब बच्चों को आर्थिक सहायता देंगे और बच्चों को डॉक्टर-इंजीनियर बनाने में मदद करेंगे। ऐसे गरीब रहे राजा दिल लोगों को सरकार को नागरिक पुरस्कार देने चाहिएं ताकि ऐसे कर्मठता के संत हमारे-तुम्हारे जैसे आम आदमियों के लिए प्रेरणा के स्रोत बन सकें। इनका लड़का विश्वजीत डॉक्टर बन चुका है और दूसरा लड़का कार्तिक एम.बी.बी.एस होने वाला है। सुभाष जी के बच्चों की पढ़ाई के दौरान मदद करने वाले पुष्कर सिंह पोखरियाल और श्याम सुंदर जी के प्रति सुभाष बहुत श्रद्धा रखते हैं क्योंकि इन लोगों ने पिछले कुछ वर्षों में उनकी तरह-तरह से मदद की है। बलूनी क्लासेस के एक अध्यापक ने इनके एक पुत्र को बिना फीस लिये पढ़ाया था जिसके लिए सुभाष जी उनका आभार व्यक्त करते रहते हैं। 8वीं पास सुभाष छोटी उम्र में देवरिया, उत्तर प्रदेश से देहरादून आए थे।

Check Also

सीएम धामी को कृषि उत्पादन मण्डी समिति में आयोजित लाभार्थी सम्मान समारोह में हुए शामिल

देहरादून (सू0वि0)।  मुख्यमंत्री ने जसपुर में की 18 हजार करोड़ की ग्राउंडिंग, क्षेत्रीय निवेशक कन्क्लेव …

17 comments

  1. I love your blog.. very nice colors & theme. Did you create this website yourself? Plz reply back as I’m looking to create my own blog and would like to know wheere u got this from. thanks

  2. Thanks for another informative website. Where else could I get that type of information written in such an ideal way? I have a project that I’m just now working on, and I have been on the look out for such info.

  3. I really like your writing style, superb info , regards for putting up : D.

  4. Hi my family member! I want to say that this article is awesome, nice written and include almost all important infos. I’d like to peer more posts like this .

  5. I like this blog so much, saved to bookmarks. “American soldiers must be turned into lambs and eating them is tolerated.” by Muammar Qaddafi.

  6. Hello there, I found your web site via Google while searching for a related topic, your website came up, it looks great. I have bookmarked it in my google bookmarks.

  7. Hello.This article was really fascinating, especially because I was searching for thoughts on this matter last Sunday.

  8. Great line up. We will be linking to this great article on our site. Keep up the good writing.

  9. The very core of your writing while appearing reasonable originally, did not settle perfectly with me after some time. Somewhere throughout the paragraphs you managed to make me a believer but only for a very short while. I nevertheless have a problem with your jumps in assumptions and you would do nicely to help fill in all those gaps. In the event you actually can accomplish that, I will surely be impressed.

  10. Puravive is a natural weight loss supplement and is said to be quite effective in supporting healthy weight loss.

  11. hello!,I like your writing very much! share we communicate more about your post on AOL? I need an expert on this area to solve my problem. May be that’s you! Looking forward to see you.

  12. You can definitely see your skills in the work you write. The world hopes for more passionate writers like you who are not afraid to say how they believe. Always follow your heart.

  13. Thank you for every other excellent article. Where else may just anybody get that kind of information in such an ideal approach of writing? I have a presentation subsequent week, and I’m at the search for such information.

  14. Have you ever considered creating an ebook or guest authoring on other sites? I have a blog centered on the same ideas you discuss and would love to have you share some stories/information. I know my readers would appreciate your work. If you are even remotely interested, feel free to send me an e-mail.

  15. I got what you intend, thanks for putting up.Woh I am happy to find this website through google.

  16. Java Burn is the world’s first and only 100 safe and proprietary formula designed to boost the speed and efficiency of your metabolism by mixing with the natural ingredients in coffee.

  17. Sight Care is a visual wellness supplement that is currently available in the market. According to the Sight Care makers, it is efficient and effective in supporting your natural vision

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *