Breaking News

Uttarakhand: मैदान में उतरते ही यमुना मैली हो रही ..।विकासनगर में नहाने योग्य जल, आचमन लायक नहीं

यमुना नदी का जल ए श्रेणी (पीने योग्य) है, जो अपने उद्गम स्थान यमुनोत्री से कालसी के हरिपुर घाट तक बहता है। विकासनगर से यमुना का जल अभी भी बी श्रेणी (स्नान योग्य) है।

यमुना नदी विकासनगर, उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में प्रवेश करते ही मैली होने लगती है। कालसी (जौनसार) के हरिपुर में यमुना का जल इतना स्वच्छ है कि आप उसका आचमन कर सकते हैं, लेकिन जैसे ही यमुना विकासनगर में प्रवेश करती है, उसका जल केवल स्नान योग्य रहता है।

उत्तराखंड प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने बताया कि यमुना नदी, जिसका उद्गम स्थान यमुनोत्री है, से कालसी के हरिपुर घाट तक जल ए श्रेणी (पीने योग्य) का है। विकासनगर से यमुना का जल अभी भी बी श्रेणी (स्नान योग्य) है। विकासनगर में कई गंदे नाले सीधे यमुना में गिरते हैं, जो इसका सबसे बड़ा कारण है।

नमामि गंगे के तट पर कालसी क्षेत्र के हरिपुर में यमुना तट का निर्माण शुरू हो गया है, लेकिन नदी को प्रदूषण से बचाने के लिए नालों की टेपिंग और एसटीपी प्लांट बनाने का खाका अभी नहीं बनाया गया है। ऐसे में, नए हरिपुर घाट से पवित्र नदी की सुंदरता तो बढ़ेगी लेकिन उनकी निर्मलता पर लगा ग्रहण नहीं हटेगा।

 

Check Also

संस्कृति विभाग ने लोक सांस्कृतिक दलों एवं एकल लोक गायको को मचीय प्रदर्शन के आधार पर सूचीबद्ध

देहरादून (सू0वि0)। संस्कृति विभाग, उत्तराखंड द्वारा प्रदेश के लोक सांस्कृतिक दलों एवं एकल लोक गायको …